गुजरात के नर्मदा जिले में 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभाई पटेल की 143 वीं जयंती पर 182 मीटर की ऊंचाई पर दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति का अनावरण होगा। “स्टेचू ऑफ़ यूनिटी” के नाम से प्रसिद्ध यह भारत के पहले उप प्रधान मंत्री सरदार वल्लभाई पटेल के सम्मान में स्वतंत्रता के बाद राष्ट्र को एकजुट करने में उनके योगदान के लिए बनाया गया है।

Source: Business World

भारत के सर्वश्रेष्ठ मूर्तिकारों में से एक 93 वर्षीय राम वंजी सुतार इस विशाल मूर्ति को बनाने वाले है। राम वंजी पिछले सात दशकों में भारत में 8,000 से अधिक मूर्तियां बना चुकें हैं। सुतार नोएडा, यूपी के निवासी है।

महाराष्ट्र के धुलीया जिले के गोंडुर गांव में 1925 में पैदा हुए सुतार ने 1954 से 1958 तक राज्य के पुरातत्व विभाग में एक मॉडेलर के रूप में सेवा कर अपने करियर की शुरूआत की। 1959 तक प्रदर्शनी प्रभाग में तकनीकी सहायक के रूप में ऑडियो-विजुअल प्रचार, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, नई दिल्ली विभाग में उन्होने काम किया। उनकी पहली मूर्तिकला प्रगति मैदान, नई दिल्ली के कृषि मेले के मुख्य द्वार के लिए थी।

उनके बेटे अनिल राम सुतार ने वाशिंगटन विश्वविद्यालय, सेंट लुइस मिसौरी, यूएसए से आर्किटेक्चर और शहरी डिजाइन में मास्टर डिग्री हासिल की हैं।

सुतार अब भारत की सबसे बड़ी फाउंड्री और स्टूडियो स्पेस का मालिक है जो 8,000 वर्ग मीटर के क्षेत्र में फैली हुई है और इसमें प्रति दिन 10,000 किलो कास्टिंग क्षमता है। वे यूपी के गाजियाबाद साहिबाबाद में स्थित हैं। उनके नाम पर, राम सुतार आर्ट क्रिएशंस और राम सुतार फाइन आर्ट्स को देश में सबसे बड़ी स्मारक मूर्तियों के निर्माण के लिए जानी जाती हैं। नोएडा में उनके निजी स्टूडियो में 2,000 वर्ग मीटर का क्षेत्र शामिल है।

उनके कुछ अन्य समीक्षकों द्वारा प्रशंसित कार्य में 16 फुट की महात्मा गांधी की ध्यान मुद्रा में मूर्ति, 18 फीट की जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, शिवाजी महाराज, जय प्रकाश नारायण और भगत सिंह की मूर्तियां शामिल हैं। उनकी मूर्तियों ने न केवल उन्हें दुनिया भर से प्रशंसा अर्जित की है, बल्कि रूस, इंग्लैंड, मलेशिया, फ्रांस और इटली में उनके काम की बहुत प्रशंसा हैं, द बेटर इंडिया की रिपोर्ट में कहा गया।
संस्कृति मंत्रालय द्वारा 2016 में प्रतिष्ठित टैगोर पुरस्कार भी दिया गया था और वह पद्म भूषण और पद्मश्री पुरस्कार दोनों से भी नवाज़े गए हैं।

Facebook Comments