देश भर में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से लोगों में विरोध की लहर देखी जा रही। ऐसी ही एक खबर पंजाब से आई हैं। एक आरटीआई रिपोर्ट के माध्यम से, पंजाब के आरटीआई कार्यकर्ता, रोहित सबरावल ने खुलासा किया कि भारत 15 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल और 37 रुपये प्रति लीटर डीजल 29 देशों में बेच रहा है जबकि भारतीय नागरिक दुगनी कीमत से अधिक पर पेट्रोल और डीजल खरीद रहे हैं।

इस संबंध में, ढाई महीने के बाद जब कार्यकर्ता को मैंगलोर कार्यालय ने मामले के संबंध में सुचना दी तो उन्होनें पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय से अधिक जानकारी प्राप्त करने की कोशिश की। वह यह जानकर चौंक गए कि भारत में इन ईंधन को इतनी लागत पर तैयार करने के लिए कोई प्रावधान नहीं है।

रोहित ने कहा कि देश भर में डीजल और पेट्रोल की बढ़ती कीमतों ने नागरिकों को परेशान तो किया ही है, साथ ही इसका भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ा है।

इसके अलावा, रोहित ने कहा कि जब भी उन्होंने सरकारी अधिकारियों से सवाल किया कि आखिर क्यों पेट्रोल-डीजल की कीमतें अपने चरम पर बढ़ रही हैं, तो भारत सरकार ने कहा कि यह कराधान के कारण है। कर 125 प्रतिशत से बढ़ाकर 150 प्रतिशत कर दिया गया है।

पंजाब के कार्यकर्ता ने इस वास्तविकता की निंदा की है कि भारत सरकार ने नागरिकों को बेवकूफ बनाया है क्योंकि पहले जिस तेल टैंक को 900 रुपये में भरा जा सकता था, आज उसे में 2500 रुपये में भरा जाता है।

सरकारी रिपोर्टों के मुताबिक भारत- अमेरिका, इराक, इंग्लैंड, इज़राइल, जॉर्डन, ऑस्ट्रेलिया, युऐई, सिंगापुर और कई अन्य देशों में पेट्रोल, डीजल निर्यात करता है।

Facebook Comments